कुमाऊँ

मानसून की पहली बारिश में खुली प्रशासन के दावों की पोल,नाले बंद सड़को पर जलभराव,झील में कूड़ा

नैनीताल। मौसम विभाग द्वारा की गई अलर्ट की भविष्यवाणी आखिरकार शुक्रवार को सही साबित हुई।सुबह 10 बजे से शुरू हुआ बारिश का दौर देर शाम तक चलता रहा।जिससे माईनस 8 फिट तक पहूंच चुके झील के जलस्तर में बढ़ोतरी हुई तो वही प्राकृतिक आपदाओं की संभावनाएं बढ़ने लगी है।आगे पढ़ें….

शुक्रवार को हुई बारिश के बीच सैलानियों ने रंग-बिरंगी छत्रियो के सहारे सरोवर नगरी की नैसर्गिक सुंदरता का लुत्फ उठाया।वही बारिश के चलते सैलानी झील में नौकायन करने से वंचित रह गए। हालांकि अब पर्यटन सीजन लगभग समाप्ति पर पहूंच चुका है।मौसम केंद्र जीआईसी के अनुसार शुक्रवार को नगर का अधिकतम तापमान 16 डिग्री तो वही न्यूनतम तापमान 14 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वही शाम तक 55 एमएम बारिश दर्ज की गई।जबकि झील के जलस्तर में दो फिट 9 इंच की बढोतरी हुई है।आगे पढ़ें……

यह भी पढ़ें 👉  वाल्मीकि समाज व सफाई कर्मचारियों की मांगों को लेकर राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को भेजा पत्र

प्रशासन के दावों की खुली पोल,नाले चौक सड़के बनी तालाब।नैनीताल। मानसून सीजन के शुरुआती दौर में ही प्रशासन द्वारा तैयारियो को लेकर किए गए दावों की पोल खुलने लगी है। शुक्रवार को हुई बारिश से नगर में जगह जगह सीवर ओवर फ्लो हो गए,तो वही नाले चौक हो जाने से नालों का पानी सड़को पर भर गया।जिससे पैदल चलने वालो को भारी फजीहत उठानी पड़ी। वही मल्लीताल रॉयल होटल के समीप बने गड्ढों में पानी भर जाने से दुपहिया वाहनों के लिए खतरा बना हुआ गया है।तथा बड़ा बाजार में भी सुंदरीकरण के दौरान नालों की सफाई नही करने का खमियाजा अब स्थानीय दुकानदारो को भरना पड़ रहा है।अभी पूरा मानसून सीजन बचा हुआ है तो ऐसे में आने वाले दिनों में नैनीताल का हाल और बेहाल होने की आशंका बनी हुई है।

To Top

You cannot copy content of this page