कुमाऊँ

राज्यपाल से सम्मानित होने पर गौरवान्वित हैं डॉ. कंचन नेगी

देहरादून, प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षक, शिक्षाविद्, अनुसंधान एवं विकास विशेषज्ञ, मीडिया एवं संचार विशेषज्ञ, अंतर्राष्ट्रीय प्रस्तुतकर्ता, सोशल रिफॉर्मर, एडिटर इन चीफ और मोटिवेशनल स्पीकर डॉ. कंचन नेगी , शिक्षा , संचार और प्रोडक्शन के क्षेत्र में  उम्दा कार्य कर रही हैं , और इसी कड़ी में , बेहतरीन मंच संचालन के लिए , दिनांक  10 सितम्बर 2023 को राज्यपाल उतराखंड, ले. ज. गुरमीत सिंह (से.नि.) और कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज द्वारा, संस्कृति विभाग द्वारा गढ़ी कैंट में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान, उत्कृष्ट वक्ता के रूप में, डॉ. कंचन नेगी को सम्मानित किया गया।आगे पढ़ें……

डॉ. कंचन नेगी आज अपने बोलने के कौशल और व्यापक ज्ञान के साथ, एक अनोखी पहचान बना चुकी हैं। डॉ. कंचन नेगी ने अपने जीवन में, वाककौशल को एक कला के रूप में मान्य किया है। अपने अतुलनीय  अनुभवों और  सही शब्दों का चयन करने की कला को ये महत्वपूर्ण मानती हैं और इसमें पारंगत हैं. इनका  विशेष ध्यान वाक्य संरचना, वचनशृंगार, और स्पष्टता के प्रति होता है, जिससे वे अपने वक्तव्य को और बेहतर और प्रभावशाली बनाती हैं। इन्हें एक अंतरराष्ट्रीय शिक्षाविद के रूप में भी मान्यता है, और ये सॉफ्ट स्किल्स कॉर्पोरेट ट्रेनर के साथ – साथ मीडिया और कम्यूनिकेशन एक्सपर्ट भी हैं. डॉ. नेगी अंग्रेजी और हिंदी भाषा में निपुणता रखती हैं, जिससे वे अपने विचारों को सही ढंग से साझा कर सकती हैं और अपने कथनों को स्पष्टता से प्रस्तुत करती है।अत्यंत ही गौरव की बात है कि इनके कार्यकौशल की मान्यता देश के विभिन्न राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में, अन्तरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय कार्यक्रमों के साथ-साथ हो रही है। इन्होंने भारत सरकार और उत्तराखंड राज्य के साथ – साथ, देश के अन्य विभिन्न राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में , एक उत्कृष्ट रिसर्च डेवेलपमेंट एक्सपर्ट और एक बेहतरीन मास्टर ऑफ़ सेरेमनीज़ के रूप में उत्तम नाम कमाया है।आगे पढ़ें

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल धारी निवासी ब्लड कैंसर पीड़ित नीमा को मदद की दरकार

डॉ. कंचन नेगी की उपलब्धियाँ जीवन के सभी क्षेत्रों के व्यक्तियों के लिए प्रेरणा के स्रोत के रूप में काम करती हैं, जो समर्पण, कड़ी मेहनत और सकारात्मक बदलाव लाने के लिए वास्तविक प्रतिबद्धता की शक्ति को रेखांकित करते हैं। बता दें, इन्हें अब तक तेरालीस से अधिक अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है , और उत्तराखंड की इस बेटी पर हमें नाज़ है.

To Top

You cannot copy content of this page