धर्म-संस्कृति

शनिवार को परमा पुरुषोत्तमी एकादशी पर विशेष:ज्योतिषाचार्य डॉ. मंजू जोशी

नैनीताल। 12 अगस्त शनिवार को परमा (पुरुषोत्तमी) एकादशी उपवास रखा जाएगा। तीन वर्षों में अधिक मास में पढ़ने वाले (दूसरी) कृष्ण पक्ष एकादशी तिथि को परमा एकादशी कहा गया है। एकादशी उपवास भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने का विधान है। पुरुषोत्तम माह के स्वामी स्वयं श्री हरि विष्णु जी हैं अतः पुरुषोत्तमी एकादशी में उपवास रखने से एकादशी उपवास का फल दस गुना बढ़ जाता है। परमा एकादशी के उपवास रखने से परम सिद्धियों की प्राप्ति होती है धन, सुख,शांति, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। व वंश वृद्धि होती है।  परमा एकादशी पर हर्षण योग का निर्माण हो रहा है एवं शनिवार पढ़ने से परमा एकादशी विशेष फल प्रदान करने वाली रहेगी। एकादशी तिथि प्रारंभ 11 अगस्त 2023 प्रातः 5:08 से 12 अगस्त 2023 प्रातः 6:33 मिनट तक व्रत पारण समय सूर्योदय से 8:50 तक रहेगा।आगे पढ़ें

यह भी पढ़ें 👉  भारी मतों से जीत दर्ज करने वाले अजय भट्ट सहित तीन को नही मिली कैबिनेट में जगह

पूजा विधि परमा एकादशी पर ब्रह्म मुहूर्त में  जागकर नित्य कर्म से निवृत्त होकर संपूर्ण घर एवं पूजा स्थल को स्वच्छ करें। पूजा स्थल पर अखंड ज्योति प्रज्वलित करें। भगवान विष्णु, देवी लक्ष्मी, शिव परिवार को स्नानादि करा कर आसन प्रदान करें। पीतांबर व बागम्बर अर्पित करें। तथा रोली, कुमकुम, चंदन, पीले पुष्प, पंचमेवा, पंच मिठाई, धूप, दीप, नैवेद्य, तुलसी दल, पान, सुपारी, जल चढ़ाएं। विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें। घी की 11 बत्तियां जलाकर भगवान विष्णु एवं शिव परिवार की पूर्ण श्रद्धा भाव से आरती करें। जरूरतमंद व्यक्तियों को अन्न वस्त्र दान करें। ज्योतिषाचार्य डॉ मंजू जोशी 

To Top

You cannot copy content of this page