खेल समाचार

एमएस धोनी आज पत्नी के जन्मदिन व विश्व कप के फाइनल का आनंद लेंगे नैनीताल में

नैनीताल।बुधवार से नैनीताल प्रवास पर आए एमएस धोनी की एक झलक पाने के लिए शनिवार को भी उनके प्रशसंक सुबह से गेस्ट हाउस के बाहर खड़े रहे।लेकिन धोनी पूरे दिन बाहर नही निकले वही उनकी पत्नी साक्षी बेटी जीवा व अन्य मित्रों के साथ विश्वविख्यात नैनी झील में नौकायन का लुत्फ उठाया।आगे पढ़ें…...

शुक्रवार को उन्होंने नैनीताल की नैसर्गिक सुंदरता का लुत्फ उठाया था।इस दौरान उन्होंने लोगो के साथ सैल्फी भी ली थी जिसके बाद सोमवार तक के लिए वे मल्लीताल के एक गेस्ट हाउस में रुक गए,जैसे ही लोगो को गेस्ट हाउस की जानकारी मिली तो शनिवार सुबह से ही सैकङो की संख्या में माही के चाहने वालो की भीड़ जुटनी शुरू हो गयी।लेकिन धोनी पूरे दिन बाहर नही निकले,हालांकि उनकी पत्नी व दोस्तो ने नैनी झील में नौकायन का लुत्फ उठाया।तो वही धोनी ने दिनभर गेस्ट हॉउस में रहे।और उनके चाहने वाले भी देर शाम तक गेट के बाहर धोनी की एक झलक पाने को खड़े रहे आखिरकार उनको निराशा होकर वापस लौटना पड़ा।आगे पढ़ें

जानकारी के अनुसार सोमवार तक धोनी नैनीताल में ही रहने वाले है तथा कैंची धाम में भी दर्शन करेंगे।वही आज रविवार को उनकी पत्नी साक्षी का जन्म दिन भी वे इस बार नैनीताल में ही मनाएंगे।साथ ही विश्वकप के फाइनल आनंद भी वे इस बार फील्ड से नही बल्कि नैनीताल की वादियो में टीवी के जरिये उठाएंगे।आगे पढ़ें

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा में कार और बस की जोरदार भिड़ंत लोगो में मची चीख पुकार

वही एमएस धोनी ने कहा कि उत्तराखंड अल्मोड़ा उनका गांव है व्यस्तता के चलते काफी समय बाद उनको अपने गांव वाले का मौका मिला जहां पर आकर उन्होंने अपने ईष्ट देव की पूजा अर्चना की। कहां की भारत सर्वश्रेष्ठ टीम है,और इस बार भारत अवश्य विश्व कप जीतेगा।और उन्होंने जल्द ही दुबारा अपने गांव अल्मोड़ा आने का वादा किया कहा कि उनको गांव में लोगो का काफी प्यार व स्नेह मिला है।उत्तराखंड व यहा के लोग काफी अच्छे है।आगे पढ़ें

बता दे कि बीते मंगलवार को पूर्व भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान एमएस धोनी व उनकी पत्नी साक्षी धोनी निजी दौरे पर नैनीताल पहुंचे और बुधवार सुबह वे अपने पैतृक गांव जैंती ल्वाली अल्मोड़ा पहूंचे थे जहां पर उन्होंने भूमिया मंदिर सहित गांव के सभी मंदिरों में पूजा अर्चना की थी।जिसके बाद वे नैनीताल वापस लौट आए थे।

To Top

You cannot copy content of this page