धर्म-संस्कृति

जीवन को प्रकाशित करना है तो शक्ति की आराधना जरूरी:आचार्य मनोज कृष्ण जोशी

नैनीताल। मां नयना देवी मंदिर प्रांगण में 9 दिवसीय श्री मद भागवत कथा के पांचवे दिन मंगलवार को कथा के व्यास आचार्य मनोज कृष्ण जोशी ने भगवान श्री राम के चरित्र का श्रवण करवाया. शक्ति तत्व का वर्णन करते हुए व्यास जी ने कहा कि बिना शक्ति के शक्तिमान की भी सत्ता नहीं होती,सूर्य में प्रकाशिका शक्ति है, तभी वे हमें प्रकाश देते हैं, अग्नि में दाहिका शक्ति है, तभी वे हमें ऊष्मा देते हैं. शक्ति के बिना हम एक क्षण भी जीवित नहीं रह सकते. शक्ति का मतलब ही जीवन है,भगवान श्री राम ने भी शक्ति की आराधना की. सीता माता ने माँ गिरिजा की आराधना कर राम को पाया, कहा कि यदि आपको अपने जीवन को प्रकाशित करना है, तो शक्ति की आराधना नितांत आवश्यक है।आगे पढ़ें….

यह भी पढ़ें 👉  20 से 29 जून तक डेस्टिनेशन गाइड प्रशिक्षण कार्यक्रम,रोजगार का मिलेगा अवसर

देवी भागवत कथा से पूर्व सुमन साह, अमिता साह, मंजू रौतेला, मीनू बुडलाकोटी, मुन्नी भट्ट आदि दर्जनों महिलाओं ने सुन्दरकांड का सामूहिक पाठ किया. प्रातः पूजा में मुख्य यजमान मनोज चौधरी और देवन चौधरी के साथ आज भीम कार्की और सुमन कार्की बैठेआयोजन की व्यवस्था को सुचारु बनाने के लिये श्री मां नयना देवी मंदिर अमर उदय ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री राजीव लोचन साह, उपाध्यक्ष श्री घनश्याम लाल साह, महासचिव श्री हेमंत शाह, उप सचिव श्री प्रदीप शाह, कोषाध्यक्ष श्री किशन सिंह नेगी, वरिष्ठ न्यासी श्री महेश लाल साह सहित सलाहकार श्री श्याम सिंह यादव, श्री ब्रजमोहन जोशी, श्री राजीव दुबे, मुख्य पुजारी बसंत बल्लभ पांडे, प्रशासनिक अधिकारी सुरेश मेलकानी और सभी पुजारी/कर्मचारी जुटे रहे।

To Top

You cannot copy content of this page