राजनीति

नैनीताल संसदीय सीट के ऐतिहासिक तथ्य

नैनीताल। नैनीताल संसदीय सीट ने एक जीवंत राजनीतिक इतिहास देखा है। इसके विजेताओं की यात्रा क्षेत्र और राष्ट्र की बदलती राजनीतिक घटनाओं को दर्शाती है। 1951 से 1998 तक भारत रत्न गोविंद बल्लभ पंत के परिवार के लोग शामिल हैं।आगे पढ़ें

आजादी के बाद वर्ष 1951-52 में देश के पहले लोकसभा चुनाव में नैनीताल सीट से पंडित गोविंद बल्लभ पंत के राजनीतिक सचिव सीडी पांडे ने 19486 के अंतर से जीत हासिल की थी। उसके बाद 1957 के चुनाव में भी उन्होंने 29487 के अंतर से दूसरी बार जीत दर्ज की।आगे पढ़ें

यह भी पढ़ें 👉  भाजपा कार्यकर्ताओं ने पालिका अधिशासी अधिकारी को सौंपा ज्ञापन

1962 से 1971 तक लगातार 15 वर्षों तक पंडित गोविंद बल्लभ पंत के पुत्र केसी पंत इस सीट से सांसद रहे। केसी पंत केंद्रीय मंत्रिमंडल में रक्षा ग्रह वित्त शिक्षा योजना आयोग परमाणु ऊर्जा बिजली इस्पात मंत्री आदि पदों पर रहे।वही 1998 में नैनीताल संसदीय सीट से पंत की बहू इला पंत इस सीट से सांसद रह चुकी है और वे नैनीताल लोकसभा सीट से पहली महिला है जो संसद तक पहुंची है।

To Top

You cannot copy content of this page