धर्म-संस्कृति

धनतेरस पर चार करोड़ रुपये के लगभग की हुई खरीदारी,चायनीज मालाएं बाजार से गायब,खीले-बतासे सजावटी मालाओ सहित मोमबत्तियों के दामो में बढ़ोतरी

नैनीताल। दीवाली को लेकर नगर में बाजार सजने लगे है।मालाओ,दियो व मोमबत्तियों से सजा मल्लीताल का बड़ा बाजार में लोगो ने खरीदारी भी शुरू कर दी है।वही धनतेरस पर लोगो ने जमकर बर्तनों,ज्वेलरी,दिए मालाएं,सजावटी सामान, खिले बतासे आदि की खरीदारी की जानकारों के अनुसार नगर में कुल मिलाकर लगभग चार करोड़ से ऊपर का कारोबार हुआ है।शुक्रवार को धनतेरस के मौके पर तल्लीताल व मल्लीताल बाजार में रौनक देखने को मिल रही है।लेकिन दुकानदारों का कहना है कि लोगो खरीदारी तो करने लगे है,लेकिन ऑनलाइन बाजार के चलते काम काफी कम हो चुका है।जबकि कुछ वर्षों पूर्व तक दीवाली से 15 दिन पहले से ही लोग खरीदारी शुरू कर देते थे। जबकि अब ऑनलाइन बाजार के चलते लोगो ने बाजारों से खरीदारी काफी कम कर दी है।लेकिन अभी भी दुकानदारों को उम्मीद है कि धनतेरस के दिन तक लोग खरीदारी करने आ सकते है।आगे पढ़ें

दुकानदारों का कहना है कि बीते कुछ वर्षों से बाजारों से अब चायनीज मालाएं दीये व अन्य उत्पाद गायब हो चुके है लेकिन अभी भी अधिकांश लोग चायनीस उत्पादों की मांग कर रहे हैं, क्योंकि चाइनीज उत्पाद सस्ते दामों में उपलब्ध हो जाते हैं। जबकि भारतीय उत्पाद काफी महंगे है।इलेक्ट्रॉनिक लाइट विक्रेता सुनील जोशी ने बताया कि उनके पास 100 से लेकर 1200 तक कि एलईडी लाइट उपलब्ध है। लेकिन इस बार अभी तक काफी कम संख्या में लोग खरीदारी कर रहे है।आगे पढ़ें

यह भी पढ़ें 👉  दिल्ली से नैनीताल घूमने आए पर्यटकों का वाहन पलटा

लाइट विक्रता गौरव कुमार ने बताया कि ऑनलाइन बाजार के चलते लोग काफी कम खरीदारी कर रहे है।उनके पास 100 से 400 तक कि बिजली की मालाएं व एलईडी लाइट उपलब्ध है।लेकिन अभी भी काफी लोग चायनीज लाइटो की मांग कर रहे है।खीले-बतासे विक्रता आनंद भट्ट के अनुसार बीते वर्ष के मुताबिक इस वर्ष खिले बतासे में 10 रुपए किलो की बढ़ोतरी हुई है।पिछले वर्ष उन्होंने 100 रुपये किलो खीले-बतासे बेचे थे,जो कि इस बार 110 रुपये किलो बेच रहे है।मोमबत्ती व मिट्टी के दिये विक्रेता ललित मोहन ने बताया कि इस बार मोमबत्ती के दामो में बढ़ोतरी हुई है।लेकिन मिट्टी के दिये अभी भी पुराने दामो पर ही बेची जा रही है।वही सजावटी मालाओ के दामो में भी 10 से 20 रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

To Top

You cannot copy content of this page